दारु के चक्कर में मिली चूत और बढ़ा कारोबार

Chooth chudai ki kahani – हेल्लो दोस्तों चूत का दस्तूर ही कुछ ऐसा है ये जिस भी लंड को लेती लेती है उसे अपना बना लेती है | मैं हूँ जम्मन और मेरा कंचनपुर में दारु का काम चलता है | ऐसे तो वह पे कई सारे लोग दारु बेचते है पर एक औरत है जिसका नाम है साधना | क्या कटीला फिगर है उसका लोग उसके यहाँ से दारु इसलिए लेने जले है क्यूंकि उसका बदन मस्त है और वो हमेशा कम कपडे पहनती है | मेरा धंधा भी अच्छा चल रहा था पर जबसे वो आ गयी है लोग उसके यहाँ से ख़राब दारु भी ले लेते है | एक दिन मैंने सोचा साली के यहाँ छापा पडवा देता हूँ पर फिर लगा यार एक बार देख तो लिया जाए है कौन ये साधना |

फिर मैं उसके यहाँ गया एक ग्राहक बनके और उससे कहा मुझे एक बोतल दारु चाहिए | वो लेकर आई तो मैंने देखा उसने साडी पहनी थी और उसका पल्लू बिलकुल खुला था | क्या कसे हुए दूध थे उसके | और जब वो झुकी कुछ उठाने के लिए तो उसकी गांड साडी के ऊपर से ही समझ में आ रही थी | मैंने बोला यार ये तो बड़ा सामान है इसको तो हक बनता है महंगी दारु बेचने का | मैंने सोच लिया था की इसको तो चोद के रहूँगा और इसको अपने धंदे का भागीदार भी बनाऊंगा | मैं रोज़ उसके यहाँ जाने लगा दारु लेने और वहीँ बैठ कर पीता था | उसके बाद उसने मुझसे कहा तुम न अन्दर मेरे कमरे में बैठ कर पी लिया करो यहाँ पर कई सारे लोग आते हैं तो अच्छा नहीं लगता | मैंने कहा ठीक है जैसा आप बोलो मुझे तो बस पीने से मतलब है | फिर अन्दर जब मैं पहुंचा तो देखा उसने अपना घर किसी महल से कम नहीं बना रखा था |

पैसा तो बहुत कमाया था उसने इस काम से इसमें कोई दोमट नहीं है और मुझे भी लग रहा था इसके साथ कम करके मज़ा आएगा | फिर मेरा ये रोज़ का हो गया अब तो वो खुद मेरे लिए पानी और खाने के लये ले आती थी और उसके पैसे भी नहीं लेती थी | फिर एक दिन मैं वह पहुंचा और मेरे साथ ही कड़ी थी और मुझसे बात कर रही थी उतने में मेरा एक ग्राहक आया और उसने दारु मांगी | मुझे पता था अगर इसने मुझे देख लिया तो ये सब कुछ बक देगा यहीं पर | तो मैंने अपना मुह घुमा लिया पर वो साला मेरे सामने आया और कहा अरे जम्मन भाई आप तो खुद दारु बेचते हो यहाँ से क्यों ले रहे हो | मैंने उससे इशारे में कहा अबे मादरचोद निकल यहाँ से पर शराबी तो शराबी | तब साधना वहाँ पर नहीं थी पर वो यही बोलता रहा और उतने में वो आ गयी और उसने सब सुन लिया | उसने कुछ नहीं कहा और कहा ए बेवडे चल निकल यहाँ से ये मेरा ख़ास ग्राहक है | मुझे लगा सब ठीक है और में अन्दर चला गया |

इस बार चीज़े थोड़ी सी अलग थीं क्यूंकि पहले वो बड़े प्यार से हस्ते हुए खाने के लिए लाती थी और दारु भी खुद ही देती थी | पर इस बार उसने खाने के लिए दिया तो पर बड़े अजीब तरीके से | वो आई और सीधा रख दिया और कहा जो लगे मेरा नौकर अन्दर है आवाज़ लगा देना | मैंने भी कहा ठीक है क्यूंकि उस समय वो गुस्से में थी और मैं कोई भी चांस नहीं लेना चाहता था | मैंने उससे बात करने की कोशिश की पर वो मुह घुमा के चली जाती थी | ऐसे ही तीन चार दिन निकल गए और मैंने उससे बात नहीं की और वो भी गुस्सा ही रहती थी |

एक हफ्ते बाद मेरे सब्र का बाँध तिऊत गया और मैंने उसका हाथ पकड़ लिया | उसने कहा “जम्मन छोड़ मेरा हाथ नहीं थप्पड़ मार दूंगी” मैंने भी कहा नहीं आज तो पता करके ही रहूँगा कि आखिर बात क्या है | उसने नहीं कोई बात नहीं है तू बस जाने दे मुझे | मैंने कहा पति तेरा है नहीं और गुस्सा दिलाने वाला तुझे कोई पैदा नहीं हुआ | तो उसने कहा अगर हो गया होगा तो तू क्या कर लेगा ? तो मैंने कहा जान ले लूँगा साले की अगर किसी ने तुझे तंग किया तो | तो उसने कहा हाँ अच्छा है फिर तू खुद को ही मार डाल |

Chooth chudai सैक्स – एक चुदाई कथा

मूझे समझ आ गया था कि आखिर माजरा क्या है ? उस दिन जो उस बेवडे ने कहा वो सीधा इसके दिल पे लगा और ये गुस्सा हो गई | साधना गयी और उसने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया और नौकर से कहा मैं सो रही हूँ कोई भी आए संभाल लेना | मैंने उसके नौकर को बुलाया और कहा छोटू ये ले पकड़ 500 का पत्ता और मुझे अन्दर जाने दे | उसने कहा ठीक है पर दरवाज़ा अन्दर से बंद है मैंने बोला तू वो सब जाने दे | उसने कहा ठीक है फिर वो चला गया | मैंने जाकर साहना को आवाज़ लगायी पर उसने कुछ जवाब नहीं दिया |

फिर मुझे हलकी सी आवाज़ आई उसके रोने की आवाज़ आई | मैंने साधना मुझे माफ़ करदे मैंने कुछ भी जानबूझ कर नहीं किया | उसने कहा पहली बार मुझे किसी से इतना लगाव हुआ था और उसी ने मेरा भरोसा तोड़ दिया | मैंने नहीं अगर भरोसा तोडना होता तो ममें यहाँ आता क्या | उसने कहा तूने मुझे बताया नहीं की तू भी वही काम करता है | तू यहाँ मुझे बर्बाद करने आया था करले मैं कुछ नहीं कहूँगी |

मैंने कहा साधना मैं यहाँ बस तुझे देखने आया था पर उजाने अनजाने में तुझसे प्यार हो गया | मैं अपने काम के बारे में तुझे बताने ही वाला था पर तूने सुन लिया | माफ़ करदे यार मेरे मन में कुछ भी गलत नहीं था और मैंने कभी नहीं सोचा था कि ऐसा कुछ हो जाएगा हमारे बीच में | फिर उसने दरवाज़ा खोला रोते हुए | मैंने उसे तुरंत ही गले लगा लिया और वो और सिसक सिसक के रोने लगी | मैंने उसे चुप कराया और उसको चूमने लगा | फिर कुछ देर बाद उसने मुझे देखा और कहा तू सच में प्यार करता है ना मुझसे | मैंने कहा हाँ मेरी माँ अब क्या अपना दिल चीर के दिखाऊ तुझे | उसने कहा वैसे ख्याल बुरा नहीं है | मैंने उसे और कस के गले लगा लिया और उसके बड़े बड़े दूध मुझे महसूस हो रहे थे | मेरा लंड भी धीरे धीरे खड़ा हो रहा था |

मैंने भी सोचा इससे अच्छा मौका मुझे नहीं मिलेगा और मैंने उसे जोर जोर से चूमना चालू कर दिया | फिर उसने मुझसे कहा ये क्या कर रहे हो जम्मन | मैंने कहा बस आज मत रोको | और उसको चूमते चूमते उसके दूध दबाने लगा | क्या कसे हुए और मुलायम दूध थे उसके | मैंने कहा अब इनको आज़ाद करदो और बस इतना ही इएहना था कि उसने अपना ब्लाउज खोल दिया | जैसे ही उसका काला ब्रा और उसमे कसे हुए दूध दिखे मैं तो हिल गया था | मैंने सोचा बस अब इससे बोल ही देता हूँ |

मैंने कहा अब मैं नहीं रुक सकता कल तेरे लिए नया ब्रा ला दूंगा | मैंने उसका ब्रा पकड़ा और फाड़ दिया | उसके बाद क्या था मैंने उसके दूध को इस कदर चूसा और वो मज़ा से सिस्कारियां ले रही थी | उसकी हालत ऐसी थी जैसे उसे कोई सुहागरात पे चोद रहा हो | मैंने उसके निप्पल दबा दबा के चूसे और फिर वो एकदम लाल हो गए थे और कड़क भी | मैं समझ गया था अब ये गरम हो चुकी है और मैंने उसकी साडी उतारी और उसने नीचे पेन्टी नहीं पहनी थी | मैंने उसकी चूत देखी और कहा इतनी शानदार फूली हुयी चूत | उसने कहा अभी तक इसे लंड नहीं मिला है इसे कस के चोदो |

मैंने अपना मुह उसके नीचे लगाया और उसकी चूत का पानी चाट के साफ कर दिया | फिर मैं उसकी चूत चाटने लगा और उसकी गलाबी की चूत को जमके चाटा | वो सिस्कारियां भर रही थी और उम्म्मम्म्म्मम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ऊऊऊऊईईईईइमा उम्म्मम्म्म्मम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ऊऊऊऊईईईईइमा कर रही थी और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था | फिर मुझे भी रहा नहीं गया और मैंने कहा साधना अब तेरी चूत में मेरा लंड जा रहा है | उसने कहा हाब्न्न डाल दे |

Ye sex kahani padhiye पहली चुदाई का नशा (अंतिम भाग)

मैंने जेसे ही लंड अन्दर डाला उसने फिर उम्म्मम्म्म्मम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ऊऊऊऊईईईईइमा उम्म्मम्म्म्मम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ऊऊऊऊईईईईइमा करना शुरू कर दिया | मुझे ये सब सुनके जोश आ गया और मैं उसे और तबियत से चोदने लगा | फिर उसके बाद मैंने उससे कहा अपनी गांड के छेद दिखा और मैंने उसके गांड के छेद को भी चोदा | आधे घंटे बाद मैंने उसके पूरे बदन पे अपना मुठ फैला दिया और वो उसे अपने पूरे बदन पे मल रही थी |

फिर वो नहाके बाहर आई मुझे गले लगाया और कहा अब से हम साथ में काम करेंगे और तू मुझे छोड़ के मत जाना | मैंने भी कहा कभी नहीं जाऊँगा बस चूत देती रहना और हम दोनों हसने लगे | दोस्तों मेरी ये कहानी आप लोगों को कैसी लगी कमेंट कर के जरुर बताइयेगा |

मुझे इंतजार रहेगा |



"bhai se chudai ki kahani""mummy chudai story""mummy sex story""sexy hindi kahani""chudai kahani hindi""indian sex st""hinde sex khane"antarvasna"didi ki gand mari""jija sali sex story in hindi""indian sex stores""bhai behan ki chudai""chodai ki kahani hindi""sexy hindi stories""hindi six khani""hindi sex store""indan sex stories""hindi sexy stories in hindi"chudaikikahani"swx story""mami sex stories""india sex kahani""www hindi sex storis com""hindi sex kahaniya""group sex kathalu""चूदाई की कहानीया"antavasna"ladki ki chudai kahani""sasur bahu ki chudai""sex story""hindi sexi""jija sali ki sex story"antarvsanasex.stories"antarvasana hindi sex stories""sali sex""jija sali ki sex story""sister sex stories""ladki ki chudai""group sex indian""sister sex brother""सेक्स स्टोरीज""desi saxy story""indian sex kahaani""bahu ko choda""हिंदी सेक्स stories""hindi sex story balatkar""india sex kahani""aunty ke sath sex""sexy storys""mastram sexy hindi story""सेक्स की कहानी""sasur sex kahani""chuday ki kahani""chudai ki story in hindi""jija sali sex stories""chut chudai hindi kahani""ladki ki chudai kahani""hindi sax story com""bhabhi ki chudai ki kahani hindi mai""porn story hindi""desi sexy hindi story""holi main chudai""sexi hindi story""free desi sex stories""bhai behan ki chudai""sexy hindi kahani""desi indian.net""india sex kahani"antrvasna"bhabhi ki choot""desi boor"indian.sex"mastram chudai kahani""hindi chudai ki kahani""sexy hindi""bhabhi sex story""bhabhi ko choda hindi kahani""group sex story"antvasana"antervasna in hindi"antarvasnhindisexkahani"sexy stories""porn hindi story""jija sali sex story in hindi""free antarvasna""चूत की कहानी""mastram hindi sexy story""hindi chudai ki kahaniya""sex dtories""sex stories marathi""risto me chudai"